MGNREGA 2024 : नरेगा आधार बेस्ड पेमेंट सिस्टम, यहाँ देखे पूरी जानकारी!

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार प्रदान करने के उद्देश्य से मनरेगा योजना अत्यंत लाभकारी साबित हो रही है। इस योजना के तहत ग्रामीण युवाओं और बेरोजगार नागरिकों को प्रतिवर्ष कम से कम 100 दिनों का रोजगार उपलब्ध कराया जा रहा है। कार्य संपन्न होने के बाद मजदूरी की राशि सीधे उनके बैंक खातों में जमा की जाती है। इस प्रकार की योजनाएं बेरोजगारी दर को कम करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं। 2006 में प्रारंभ की गई यह योजना आज भी निरंतर जारी है और ग्रामीण अर्थव्यवस्था को सुदृढ़ करने में सहायक सिद्ध हो रही है।

कई बार ऐसा देखा गया है कि मजदूरों को समय पर मजदूरी नहीं मिल पाती और कभी-कभी भ्रष्टाचार के कारण उनकी मेहनत की कमाई बीच में ही गायब हो जाती है। इस समस्या के समाधान के लिए केंद्र सरकार ने 1 जनवरी 2024 से एक नया नियम लागू किया है। इस नियम के अनुसार, अब मनरेगा के तहत काम करने वाले मजदूरों को भुगतान आधार कार्ड आधारित सिस्टम के माध्यम से किया जाएगा। इसके लिए मजदूरों के बैंक खाते को उनके आधार कार्ड से जोड़ा जाएगा। यह पेमेंट सिस्टम अब अनिवार्य कर दिया गया है, जिससे मजदूरी का भुगतान सीधे और पारदर्शी तरीके से मजदूरों तक पहुंच सके।

ज्यादातर लोगों ने छोड़ दिया रोजगार

जब मनरेगा योजना की शुरुआत हुई थी, तब मजदूरों को प्रतिदिन की मजदूरी सीधे दे दी जाती थी, लेकिन इस प्रणाली में काफी गड़बड़ी और भ्रष्टाचार होने लगा था। इस समस्या को देखते हुए, सरकार ने 11 जनवरी 2024 को एक नया आधार आधारित भुगतान प्रणाली लागू की है। इससे उन मजदूरों को समय पर भुगतान मिलने लगा है जिन्हें पहले दिक्कतों का सामना करना पड़ता था। अब तक इस योजना के अंतर्गत 25 करोड़ से भी अधिक लोग पंजीकृत हो चुके हैं और वर्तमान में 14 करोड़ से अधिक लोग कार्यरत हैं।

मनरेगा में काम करने वाले अधिकांश मजदूरों के बैंक खाते अभी तक उनके आधार कार्ड से नहीं जुड़े हैं। इस तकनीकी समस्या को दूर करते हुए, अब मजदूरों को छूट दी जाएगी और नए आधार आधारित भुगतान प्रणाली के माध्यम से उन्हें भुगतान किया जाएगा।

क्या है यह mgnrega aadhaar based payment system

आधार आधारित भुगतान प्रणाली के तहत मजदूरों के बैंक खाते को उनके आधार कार्ड से जोड़ा जाएगा। इसके बाद आधार कार्ड की जानकारी को जॉब कार्ड से भी कनेक्ट किया जाएगा। जिन श्रमिकों के पास अभी तक बैंक खाता नहीं है, उनके लिए नए बैंक खाते खोले जाएंगे। इसके बाद राष्ट्रीय मोबाइल मॉनिटरिंग सिस्टम ऐप की मदद से मजदूरों की उपस्थिति दर्ज की जाएगी और उन्हें समय पर वेतन प्रदान किया जाएगा।

Berojgari Bhatta Yojana Registration

क्यों बदल गया पेमेंट सिस्टम

34.8% जॉब कार्ड धारक अमान्य पाए गए क्योंकि उनके आधार कार्ड, जॉब कार्ड और अन्य दस्तावेजों में नाम की वर्तनी अलग-अलग थी। इन त्रुटियों को ठीक करने के बाद अब आधार भुगतान प्रणाली शुरू की जाएगी। इससे सही खाते में भुगतान पहुंच सकेगा, भुगतान में पारदर्शिता आएगी, फर्जी लाभार्थियों को रोका जा सकेगा और भ्रष्टाचार खत्म होगा। इस नई प्रणाली के तहत मजदूरों को बैंक खाता संख्या अपडेट करने की आवश्यकता नहीं होगी क्योंकि आधार की वजह से सीधे उनके लिंक्ड बैंक खाते में पैसा भेज दिया जाएगा।

Leave a Comment

Floating Telegram Button Telegram Icon